मुंगेली : उद्यान विभाग की योजनांतर्गत 443 बैगा कृषकों ने सीखा नवीन खेती तकनीक..

शेयर करें...

मुंगेली/ उद्यान विभाग की योजनांतर्गत जिले के विशेष पिछड़े समूह के 443 बैगा कृषकों को राज्य कृषि प्रबंधन एवं विस्तार प्रशिक्षण संस्थान (समेती) लाभाण्डी रायपुर में प्रशिक्षण दिया गया। इन बैगाओं को कलेक्टर राहुल देव के मार्गदर्शन में उद्यान विभाग द्वारा नवीन तकनीक से खेती हेतु प्रशिक्षण के लिए रायपुर भेजा गया था। जहां बैगा कृषकों ने नवीन तकनीक से खेती करने का तरीका जाना। उद्यान विभाग के सहायक संचालक ने बताया कि राज्य शासन की मंशा अनुरूप राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजनांतर्गत कृषि के साथ-साथ उद्यानिकी फसलों के क्षेत्र विस्तार एवं उत्पादन में वृद्धि करना है।

इस योजना के अंतर्गत विशेष पिछड़े समूह के 443 बैगा कृषकों को 30 जनवरी से 4 फरवरी, 6 से 11 फरवरी, 20 से 25 फरवरी तक राज्य कृषि प्रबंधन एवं विस्तार प्रशिक्षण संस्थान (समेती) लाभाण्डी रायपुर में प्रशिक्षण दिया गया। कृषकों को उद्यानिकी फसलों से संबंधित उन्नत तकनीक से खेती (फल व सब्जी), समन्वित कीट प्रबंधन, बीमारियों के रोकथाम की जानकारी, बीज उत्पादन, तकनीक, बहुवर्षीय सब्जियों की खेती, पुष्प उत्पादन तकनीक व संभावनाएं, मशरूम उत्पादन, कंद वर्गीय सब्जियों की खेती, उद्यानिकी की खेती में प्रयोग होने वाले यंत्रों की जानकारी दी गई। साथ ही कृषकों को इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के टीशू कल्चर प्रयोगशाला, सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, संरक्षित खेती प्रक्षेत्र, कृषि विज्ञान केन्द्र प्रक्षेत्र व शासकीय बीज प्रांगण प्रक्षेत्र बाना का भी भ्रमण कराया गया। जहां इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों, कृषि विज्ञान केन्द्र के विषय-वस्तु विशेषज्ञ और संस्थान के अधिकारियों ने कृषकों को उक्त विषयों के बारे में तकनीकी जानकारी दी। कृषकों ने राज्य सरकार की इस नवीन तकनीक की सराहना करते हुए इसे अपनाने की बात कही। इस दौरान राज्य कृषि प्रबंधन एवं विस्तार प्रशिक्षण संस्थान द्वारा कृषकों को पुनर्मूल्यांकन व प्रमाण पत्र भी वितरण किया गया।

Scroll to Top